Legal

निबंध की परिभाषा एवं प्रकार

निबंध शब्द रूप शुद्ध भारतीय है निबन्ध्नातीति निबंधः के आधार पर इस शब्द का अर्थ ग्रहण किया जाता था । प्राचीन काल में पोथियों  को सिल कर रखने की प्रथा थी । उसे निबंध कहा गया . किंतु आधुनिक संदर्भ में निबंध का अर्थ संकोच खो गया है और यह एक विधा विशेष के रूप में प्रचलित है.  आज यह अंग्रेजी के Essay का पर्याय …

निबंध की परिभाषा एवं प्रकार Read More »

भाषा का सामान्य परिचय(General Introduction to Language)

भाषा का सामान्य परिचय-(General Introduction to Language)- मानव एक सामाजिक प्राणी है। वह मिलनसार प्रवृत्ति का प्राणी है और एक दूसरे से आसानी से घुलमिल जाता है। वह भाषा के माध्यम से अपनी भावनाओं, अनुभूतियों एवं विचारों का एक दूसरे के साथ आदान-प्रदान करता है। ऐसा कर मनुष्य एक दूसरे के साथ सम्बन्ध निर्मित करते …

भाषा का सामान्य परिचय(General Introduction to Language) Read More »

हिन्दी व्याकरण

व्याकरण – व्याकरण वह विद्या है ,जिससे हमें ठीक-ठीक बोलने ,लिखने और सीखने का ज्ञान हो जाता है . भाषा को सीखने और समझने के साथ-साथ भाषा का सम्यक बोध व्याकरण के द्वारा ही संभव है. व्याकरण के अन्तर्गत वर्ण व्यवस्था से लेकर भाषा व्यवस्था पर विचार किया जाता है. भाषा की सबसे छोटी इकाई …

हिन्दी व्याकरण Read More »

सूत्र वाक्य (उक्तियाँ) Maxims

विधि विषयक अधिकांश शब्द अंग्रेजी अथवा लेटिन भाषा से लिये है। विधि की अधिकतर उक्तियाँ भी अंग्रेजी अथवा लेटिन भाषा के। पर ही आधारित हैं। इन लेटिन एवं च भाषा के शब्दों को कहादतें, सूत्र अथवा सिद्धान्त भी कहा जा सकता है। यहाँ कतिपय महत्वपूर्ण लेटिन के। वास्यों (Lalin Marlims) का उल्लेख किया जा रहा …

सूत्र वाक्य (उक्तियाँ) Maxims Read More »

साम्या की सूक्तियाँ (Maxims of Equity)

1. Equity will not suffer a wrong to be without a remedy  साम्या यह सहन नहीं करेगी कि किसी अपकृत्य के लिए कोई उपाय न हो  रूप सिंह  बनाम भक्तवर सिंह , 1986 सप्ली.सु.को कैसेज 681 इक्क्यूइन्जीनियर इरीगेशन बनाम अभदूता जेना (1988) सु.को.केसेज 418 2. Equity follow the law (Acqultas sequitur legem) (साम्या विधि का …

साम्या की सूक्तियाँ (Maxims of Equity) Read More »

विधिक सूक्तियाँ (LEGAL MAXIM)

विधिक सूक्तियाँ (LEGAL MAXIM) महत्वपूर्ण विधिक भाषा की सूक्तियों की व्याख्या 1. Actus non facit reum, nisimens sitrea [latin] केवल कार्य किसी को अपराधी नहीं बनाता यदि उसका मन का भी अपराधिकरण न हो [The act itself does not constitute guilt unless done with a guilty intent] कॉमन लॉ के अन्तर्गत अपराध गठित करने के लिए …

विधिक सूक्तियाँ (LEGAL MAXIM) Read More »

लिपि की परिभाषा और महत्त्व, देवनागरी लिपि (Definition & Importance of Script :Devnagari )

इस ब्लॉग को पढ़ कर आप निम्नलिखित तथ्यों से अवगत होंगे – 1. लिपि की परिभाषा 2. भाषा को दीर्घजीवी बनाने में लिपि का महत्व3. देवनागरी लिपि के विविध पक्ष  लिपि की परिभाषा और महत्त्व भाषा के लिखित प्रतीकों की व्यवस्था लिपि कहलाती है। लिपि किसी भाषा की लगभग सभी ध्वनियों को प्रतीकरूप में प्रस्तुत करती …

लिपि की परिभाषा और महत्त्व, देवनागरी लिपि (Definition & Importance of Script :Devnagari ) Read More »

इच्छा-पत्र (Will Deed)

 इच्छा-पत्र  हम कि …………………पुत्र……………निवासी……………..का हूँ। चूँकि मैं वृद्ध हो चुका हूँ तथा मेरा स्वास्थ्य खराब चल रहा है। क्या पता कब देहावसान हो जाय। मेरी  विभिन्न स्वअर्जित संपत्तियों के उत्तराधिकार को लेकर मेरे उत्तराधिकारियों के बीच विवाद उत्पन्न होने की संभावना है। अतएव मैनें उचित समझा कि मैं अपनी संपत्तियों की वसीयत निम्नवत कर दूँ। …

इच्छा-पत्र (Will Deed) Read More »

विक्रय विलेख -Sale Deed

विक्रय विलेख  हम कि …………………पुत्र……………निवासी ग्राम/मुहल्ला……………..तप्पा………………परगना………….तहसील………..पोस्ट…………जिला……….का हूँ जिसे एतद्पश्चात् विक्रेता कहा गया है। विदित हो कि विक्रेता मुहल्ला/ग्राम …………..पोस्ट………….तहसील…………..जिला…….स्थित आराजी संख्या………..क्षेत्रफल…………का अध्यासी भूमिधर है। मकान संख्या……….का अध्यासी स्वामी है जिसे एतद्पश्चात् प्रश्नगत संपत्ति कहा गया है जिसे विक्रय करने का विक्रेता को हर प्रकार से अधिकार प्राप्त है तथा प्रश्नगत संपत्ति हर प्रकार के भार …

विक्रय विलेख -Sale Deed Read More »

विधि पाठ्यक्रम में विधिक भाषा हिन्दी की आवश्यकता और महत्व

विधि के लिये भाषा का महत्वः- विधि भाषा के माध्यम से निर्मित किया जाता है और तर्क इससे नियंत्रित होता है। अधिवक्ताओं का कार्य शब्दों के साथ जुड़ा है। शब्द अधिवक्ताओं के शिल्प की कच्ची सामग्री है। शब्द विचारों के उपकरण ही नही बल्कि वे उन्हें नियंत्रित भी करते है। अधिवक्ता भाषा संरचना की योजना …

विधि पाठ्यक्रम में विधिक भाषा हिन्दी की आवश्यकता और महत्व Read More »